विश्व खाध दिवस पर जानें हमें कैसे भोजन लेना चाहिए

Follow us on

विश्व खाद्य दिवस पर लेख (Essay on World Food Day)

आज 16 अक्टूबर है और पूरी दुनिया वर्ल्ड फ़ूड डे (World Food Day) यानि विश्व खाध दिवस मना रही है .आइए जानते है की वर्ल्ड फ़ूड डे क्यों मनाया जाता है . और इसके क्या उद्देश्य है .

विश्व खाध दिवस का मतलब होता है  रोटी . क्या आपको लगता है दुनिया भर में सभी लोगों को दोनों वक्त रोटी मिलती है यदि या वे एक वक्त भूखे सो रहे है . दोस्त आप खुशनशीब हो की आपको दोनों वक्त रोटी मिल रही है.

विश्व खाद्य दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

यूएन वर्ल्ड फूड प्रोग्राम की एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में 82.8 करोड़ लोग ऐसे हैं, जो हर रात भूखे पेट सो जाते हैं. उन्हें भोजन नहीं मिलता है . वे किसी प्रकार से एक वक्त का भोजन जुटा पते है . यह आंकड़ा भयावह है. ऐसी स्थिति से पार पाया जाए और किसी को भूखा न सोना पड़े, इसलिए यही बात को लेकर विश्व खाद्य दिवस मनाया जाता है . और साल 1981 से ही हर साल 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस (World Food Day) मनाया जाता है, ताकि उन लोगों के प्रति ध्यान जाए, जो भूख से पीड़ित हैं. यानि जिन्हे दोनों वक्त रोटी नहीं मिलती है .

विश्व खाध दिवस पर जानें हमें कैसे भोजन लेना चाहिए

Global Hanger Report

भुखमरी को लेकर हर साल कंसर्न वर्ल्डवाइड और वर्ल्ड हंगर हेल्प (जर्मनी में Welthungerhilfe) नामक यूरोपीयन NGO एक रिपोर्ट तैयार करती है और वे एक रैंक देती है की दुनिया में किस देश की स्थिति क्या है . और ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2022 में चीन, बेलारूस, तुर्किये, चिली, क्रोएशिया, एस्टोनिया, हंगरी और कुवैत समेत 17 देशों को सबसे आगे रखा गया है. इन देशों का स्कोर 5 से कम है और 1-17 के बीच इन्हें कोई रैंक नहीं दी गई. वहीं, 121 देशों की सूची में सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक, मेडागास्कर, कॉन्गो, चैड और यमन (121वां स्थान) सबसे पीछे हैं.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत की रैंकिंग में लगातार दूसरे साल गिरावट दर्ज की गई है. 2022 की लिस्ट में भारत को 107वीं रैंक मिली है. पिछले साल भारत 101 नंबर पर था. इस लिस्ट में कुल 121 देश शामिल हैं. पाकिस्तान की रैंकिंग 99, बांग्लादेश की 84, नेपाल की 81 और श्रीलंका की 64 है. सिर्फ अफगानिस्तान ही 109वीं रैंक के साथ भारत से पीछे है.

विश्व खाध दिवस के क्या उद्देश्य क्या है ?

दुनियाभर में एक साथ हर साल 16 अक्टूबर को वर्ल्ड फूड डे यानि विश्व खाध दिवस मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य भुखमरी से पीड़ित लोगों को जागरूक करना है। साथ ही उसे पोषण युक्त आहार लेने के फायदे के बारे में जानकारी उपलब्ध कराना है।

विश्व खाध दिवस को मनाने की शुरुआत कब हुई ?

सबसे पहले 1945 में रोम में ‘खाद्य एवं कृषि संगठन’ (Food and Agriculture Organization, FAO) की स्थापना हुई थी.यह संगठन खाद्य सुरक्षा और पोषक तत्व के संबंध में कार्य करती है। इसके तहत लोगों को जागरूक किया जाता है। इसके प्रयास के चलते साल 1979 में कांग्रेस ऑफ एफएओ ने वर्ल्ड फूड डे मनाने की घोषणा की। इसके बाद साल 1981 से 16 अक्टूबर को हर साल वर्ल्ड फूड डे (World Food Day)मनाया जाता है।

इस दिन दुनिया भर के 150 सदस्य देश मिलकर विश्व खाद्य दिवस मानते हैं. इस दिन जगह-जगह लोगों को जागरूक करने के लक्ष्य से कई तरह के प्रोग्राम मनाए जाते हैं.और ये प्रतिज्ञा करते है की पूरी दुनिया को भुखमरी से ख़त्म करना है . ताकि कोई भी इंसान भूखा और कुपोषित न रहे.

Must Read : क्रिसमस पर एक लघु निबंध

विश्व खाद्य समस्या थीम 2022

इस दिन को मनाने के लिए हर साल एक नई थीम चुनी जाती है. इस साल की थीम  Leave No One Behind यानी किसी को पीछे न छोड़ें.

अपने रोटी मिल रही है तो आप भोजन में क्या खा रहे है आपको सही फ़ूड लेना है . आइए जानते है आपको कैसा भोजन लेना है ताकि आप फिट और हेल्दी रह सको . खाने में प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और मिनरल्स संतुलित मात्रा में लें.

  • प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए आयरन वाले फूड खाने जरुरी हैं. जिनमें खास कर आयरन, फोलिक एसिड, कैल्शियम, आयोडीन और विटामिन ए हो. उन्हें गुड़ के साथ दूध पीना चाहिए, हरी सब्जियां और फल खाने चाहिए.
  • अपने खाने में मिलेट शामिल करें. इसे चमत्कारी अनाज भी कहा जाता है. इसमें काफी ज्यादा न्यूट्रिशन होता है.
  • अपनी डाइट में नियमित तौर पर हरी सब्जियां और फल जरूर शामिल करें. ये शरीर के विकास के लिए बेहद जरूरी है.
  • दाल में काफी प्रोटीन पाया जाता है. अपने भोजन में दाल का सेवन अवश्य करें. ये आपको बीमारी से बचाने में मदद करते हैं.
  • ड्राई फ्रूट्स को भी अपने खाने में शामिल करें.  ये आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं और कई बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं.
  • डाइट में दूध, दही, पनीर, घी, छाछ का जरूर शामिल करें.  इससे आपके शरीर में कैल्शियम, विटामिन-D और भी कई पोषक तत्वों की कमी नहीं होगी.
  • अंडे में प्राकृतिक रूप से विटामिन डी और प्रोटीन पाया जाता है. यह शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है.

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.