Categories: Paragraph

World Soil Day in Hindi- विश्व मृदा दिवस कब मनाया जाता है

World Soil Day in Hindi- विश्व मृदा दिवस कब मनाया जाता है

World soil day– हर साल हम सभी तथा विश्व भर के लोग 5 दिसंबर को विश्व मृदा (मिट्टी) दिवस को मानते है | मृदा दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य है हमें आम लोगों को मिट्टी के महत्व को बताना तथा समझाना और उसे इसके महत्व के प्रति जागरूक करना है |

विश्व की जनसँख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है , जिससे हम जंगलो को काटते जा रहे है और शहरों को बसाया जा रहा है | जिससे मिट्टी का कटाव बढ़ता जा रहा है | हमें इस कटाव को काम करना है | जंगलो को बचाना है | मिट्टी को बचाना है | अगर मिट्टी ही नहीं रहेगी तो अनाज की उपज कैसे होगी फिर हमें खाने के लिए अनाज कहाँ से मिलेगी |

हम फसलों के अधिक उपज के लालच में तरह तरह के रासायनिक खाध और कीटनाशक दवाइयां का उपयोग करते है , जिससे परिणामस्वरूप मिट्टी में पालन वाले किट-पतंग मर जाते है | मिट्टी का सरंक्षण बहुत आवश्यक है | क्योंकि इससे पौधे का विकास होता है और यह कई कीड़ों और जीवों के लिए रहने की जगह है| जो हमारे भोजन, कपड़े, आश्रय और चिकित्सा सहित चार आवश्यक ‘जीवित’ कारकों का स्रोत है |

विश्व मृदा दिवस इतिहास – World Soil Day Hostory

अंतरराष्ट्रीय मृदा विज्ञान संघ और खाद्य और कृषि संगठन (Food And Agriculture Organisation) ने हर साल 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस मनाने की सलाह पूरी दुनिया को दी थी | और यह औपचारिक स्थापना वैश्विक जागरुकता बढ़ाने वाले मंच का आयोजन थाईलैंड में संपन्न हुई थी | जिसका समर्थन में एफएओ ने सर्वसम्मति से जून 2013 में विश्व मृदा दिवस का समर्थन किया और 68 वें संयुक्त राष्ट्र महासभा में इसको आधिकारिक रूप से मनाए जाने का अनुरोध किया | इसके बाद दिसंबर 2013 में, 68 वें सत्र में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की | पहला विश्व मृदा दिवस 5 दिसंबर, 2014 को मनाया गया था |

विश्व मृदा दिवस और थीम- world soil day theme

प्रथम विश्व मृदा दिवस 05 दिसंबर 2014 को संपूर्ण विश्व में मनाया गया था | इस अवसर पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप महानिदेशक डॉ. रणधीर सिंह ने कहा कि खेती के तौर-तरीकों और वातावरण में हुए बदलाव का असर मिट्टी व पानी दोनों पर पड़ा है | यह कार्यक्रम मिट्टी के बारे में जागरूकता बढ़ाने और महत्वपूर्ण संसाधन के स्थायी उपयोग को बढ़ावा देने लिए वर्ष भर मनाया जाएगा |

प्रधानमंत्री मोदी ने वर्ष 2015 में मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना (एसएचसी) की शुरूआत की थी | इसके लिए भारत सरकार के कृषि एवं सहकारिता मंत्रालय ने पूरे देश में 14 करोड़ मृदा स्वास्थ्य कार्ड (एसएचसी) जारी करने का लक्ष्य रखा था |

05 दिसंबर 2017 को ‘विश्व मृदा दिवस’ सम्पूर्ण विश्व में मनाया गया | और बर्ष 2017 की थीम “केयरिंग फॉर द प्लेनेट स्टार्टस फ्रॉम ग्राउंड” है |

बर्ष 2018  को खाद्य व कृषि संगठन द्वारा विश्व मृदा दिवस मनाया जाता है। और इस बर्ष का थीम “मृदा प्रदूषण रोको” थी |

बर्ष 2019 में विश्व मृदा दिवस मनाया गया और इसका थीम है “मृदा कटाव रोकें, हमारा भविष्य संवारें” है |

Related Posts.

Disqus Comments Loading...