Lohri Festival Essay in Hindi-लोहडी पर निबंध हिन्दी में

Lohri Festival Essay in Hindi-लोहडी पर निबंध हिन्दी में

Spread the love

Lohri Festival Essay in Hindi

लोहडी [Lohri] एक सुप्रसिध्द त्योहार है । जिसे किसानी त्योहार भी कहते है । इसे मकर-सक्रांति के एक दिन पहले मनाई जाती है । इस त्योहार को खास रुप से पंजाबी परिवार के ही लोग मनाते है । वैसे तो इस त्योहार को समस्त भारत देश में मनाई जाती है क्योकिं पंजाबी समुदाय के लोग समस्त भारत में फ़ैले हुए है । लेकिन मुख्य रुप से इसे पंजाब और हरियाणा राज्य में मनाए जाते है ।

इस दिन तमिनलाडु के लोग पोंगल तथा उतर भारत में मकर-सक्रांति का त्योहार बहुत ही आनंद और उत्साह से मनाते है । लोहडी [ Lohri]  का त्योहार दो दिन तक चलता रहता है । पंजाब में जब किसान अपने फ़सल की कटाई कर लेते है तभी इस त्योहार को मनाते है ।

पंजाबियॊं के लिए यह त्योहार बहुत ही खाश होता है । लोहडी के एक दिन पहले ही कुछ बच्चें इकट्ठा होकर सभी के घरों में जाकर लोहडी का गीत गाकर लोहडी के लिए लकडियां, मेवा, रेवडीयां तथा मुंगफ़ली जमा करते है । और शाम होते ही सभी लोग एक जगह इकट्ठा हो जाते है और आग जलाई जाती है ।

फ़िर सभी लोग मिलकर आग के चारो ओर चक्कर काटते हुए लोहडी के पारंपरिक गीत को गाकर नाचते है गाते है और  आग में मुंगफ़ली, रेवडिया, मक्की और खील की आहुति देते है । फ़िर सभी लोग मिलकर आग के चारो ओर बैठ जाते है और आग सेंकते हुए रेवडी, मुंगफ़ली, खील, गजक तथा मक्का खाकर त्योहार का भरपुर आनंद लेते है ।

नई-नवेली दुलहन अर्थात जिसकी नई-नई शादी हुई हो तो उसके लिए यह पहली लोहडी बहुत ही खास होता है । सभी लोग नई दुलहन तथा नया बच्चा जन्मा हो तो उसके घर जाकर सभी उसे बधाई देते है ।

पंजाबी परिवार इस त्योहार को बहुत ही अलग अंदाज से मनाते है ।

Related posts.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.