क्रिसमस पर एक लघु निबंध

Follow us on

क्रिसमस पर निबंध- Essay on Christmas. Paragraph on Christmas

क्रिसमस ईसाईयों का प्रसिध्द त्योहार है । यह त्योहार हर साल 25 दिसंबर को मनाया जाता है | ईसाईयों के मसीहा इसा मसीह के जन्मदिन के यादगारी को हम क्रिसमस का त्यौहार मानते है | इसी दिन भगवान इसा का जन्म हुआ था । इसे हम बडा दिन भी कहते है ।

इसाई समुदाय के लोग इस त्योहार को बहुत ही बेसब्री से इंतजार करते है । वे अपने घरों को सजाते है । बच्चें बुढे सभी नए- नए कपडे पहनते है, एक दुसरे को बधाई देते है और मिठाई खाते और खिलाते है ।

यह त्योहार आपसी भाईचारे और प्रेम सौहार्द का त्योहार है । सभी खुशियां मनाते है ।

क्रिसमस पर एक लघु निबंध

 

ईसाई लोग क्रिसमस के दिन विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाते हैं। बाजारों में चहल-पहल और रौनक बढ़ जाती है। घर और बाजार रंगीन रोशनियों से जगमगा उठते हैं। सभी जगह संता कलॉज के मुर्ति से सरोवार हो उठता है ।

किसमस पर गिरिजाघरों की साफ़-सफ़ाई करके रंगीन बल्बों से सजावट कर दी जाती है । इसा मसीह के बारे में कई प्रोग्राम आयोजित किए जाते है । शहर के कई जगह पर क्रिसमस की पूर्व रात्रि, गि‍‍‍‍रिजाघरों में रात्रिकालीन प्रार्थना सभा की जाती है जो रात के 12 बजे तक चलती है। ठीक 12 बजे लोग अपने प्रियजनों को क्रिसमस की बधाइयां देते हैं और खुशियां मनाते हैं। और पॉप को प्रणाम करके आशीर्वाद लेते है ।

क्रिसमस का महत्व

क्रिसमस के दिन सुबह से ही गि‍‍‍‍रिजाघरों में विशेष प्रार्थना सभा होती है। कई जगह क्रिसमस के दिन मसीह समाज द्वारा जुलूस निकाला जाता है। जिसमें प्रभु यीशु मसीह की झांकियां प्रस्तुत की जाती हैं, जिसमें भगवान ईसा के विचार और लोगों के प्रेम भावना की कहानी सुनाई जाती है । सिर्फ ईसाई समुदाय ही नहीं, अन्य धर्मों के लोग भी इस दिन चर्च में मोमबत्तियां जलाकर प्रार्थना करते है ।

इस दिन सभी लोग अपने आंगन में क्रिसमस ट्री लगाकर एक दुसरे को उपहार देते है । इस त्योहार में केक का भी विशेष महत्व है। इसके बिना क्रिसमस अधूरा होता है।

Why do we celebrate Christmas?

क्रिसमस, क्रिश्चियन का मुख्य त्योहार है। वे ईसा मसीह की याद को याद करते हैं। उनका मानना है कि यीशु मसीह ईश्वर का पुत्र है और वह हमारे लिए आया है। इस दिन ईसा मसीह ने जन्म लिया है और सभी क्रिश्चियन परिवार उनके जन्म दिवस को क्रिसमस के रूप में मनाते हैं।

ईसाईयों के लिए यह एक महत्वपूर्ण त्यौहार है . जबकि यह सभी धर्मो के लोग पूरी दुनियां में मिल जल कर मनाते है . यह त्यौहार शीत-ऋतू  में मनाया जाता है . भगवान ईशा मसीह के जन्मदिन की ख़ुशी में यह त्यौहार मनाया जाता है . आज के दिन भगवान ईशा मसीह का जन्म पिता जोसफ और माता मरियम के घर में हुआ था. आज से 1992 वर्ष पूर्व 25 दिसम्बर को ईसा के जन्म स्थान यरुशलम के बेतलहम नामक गाँव में हुआ था

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.