We are social

गरीब किसान का बेटा बना DSP-Manish Kumar DSP

Manish Kumar DSP:

There is nothing to impossible in the world.

यहां पर कुछ भी असंभव नहीं हैं, आप वो सब कुछ कर सकते हैं जो आप वो सपना अपने खुले आंखों से देखते है , बस जरुरत है आपकी दृढ-शक्ति और अपने उपर पर विश्वास और कठिन मेहनत आपको बुलन्दिओ पर पहुंचा सकता है ।” Manish Kumar DSP बनकर ये साबित कर दिया की सफलता किसी के मुहताज नहीं होती |

जी हां दोस्तो, इस दुनियां में असंभव नाम का कोई चीज नही है, अगर आपको अपने जीवन में कुछ करना है, तो आपका सपना होना चाहिए। और उस सपने को पुरा करने के लिये आपके पास ईच्छाशक्ति भी होनी चाहिए ।

 

दोस्त, कुछ लोग जन्म से ही Genius होते है वो जिस घर में जन्म लेते है, चाहे उस घर कि परिस्थिति कैसी भी क्यों न हो, वो रास्ता अपने आप बन जाता है । ये बिल्कुल impossible है कि एक गरीब किसान का बेटा अपने लग्न और कठिन मेहनत के बल पर मात्र 21 साल की उम्र DSP पोस्ट प्राप्त कर लेगा |

 

BPSC सिविल सर्विस परीक्षा बहुत मुश्किल परीक्षा होती है। इस परीक्षा में लाखो विधार्थी बेठते है, और प्रशन बहुत कठिन आता है। कोई भी बिधार्थी चार-पांच बार के बिना Exam Clear नही कर पाता है ।

लेकिन Siwan के  एक छोटे से गांव के Manish Kumar ने ये परीक्षा एक ही बार में २३वा रैंक लेकर सबको चकित कर दिया |

बिहार के Siwan जिले के गरीब किसान का बेटा बना DSP-Manish Kumar DSP

 

मनीष कुमार DSP

 

इनके गांव में अच्छा स्कुल नहीं था स्कुल के फीस भरने के पैसे नहीं थे, फिर भी मैनेज किया और अपने मुकाम को हासिल किया |

आज के माहौल में देखा जय तो किसी के पास सारी सुविधा होने के बावजूद भी सफलता नहीं हासिल कर पता है |

 

कुछ लोग ऐसे होते है, जिनके घर की परिसिथति अच्छी नहीं होने के बावजूद भी अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए अपने समस्या को आड़े नहीं आने देते है ऐसे में थे मनीष कुमार .

 गरीब किसान का बेटा बना DSP-Manish Kumar DSP

 

इनके यहाँ पढाई के लिए स्कुल नहीं था तो इन्होने अपने फूफाजी के सरक्षण में झारखण्ड के रांची शहर से ही अपने ग्रेजुएशन की पढाई पूरी की | उनके फूफाजी झारखण्ड रांची में हाई स्कूल के शिक्षक थे , उन्ही के देख-रेख ने मनीष ने अपनी ग्रेजुएशन की पढाई पूरी की |

फिर आगे की पढाई के लिए कोचिंग लेने के लिए देश की राजधानी दिल्ली गए और वही   रहकर अपने सिविल सर्विस की परीक्षा की तयारी की।

उन्होने रोज लगतर ६ घण्टे की रोज तैयारी करते थे, कोचिंग के अलावा |

इसके आलावा बहुत प्रॉब्लम आई जिसे झेलते हुए आगे बढ़ते गए और सफलता पाई | बिशेष आप इस YouTube वीडियो में सब कुछ सुन सकते है |

 

 

अपने होनहार के लिए पुरे जिले में किस प्रकार स्वागत हुआ इसे देखे इस वीडियो में:

 

 

 

Related post:

indradev yadavMotivationalManish Kumar DSPगरीब किसान का बेटा बना DSP-Manish Kumar DSP Manish Kumar DSP: There is nothing to impossible in the world. “यहां पर कुछ भी असंभव नहीं हैं, आप वो सब कुछ कर सकते हैं जो आप वो सपना अपने खुले आंखों से देखते है , बस जरुरत है आपकी दृढ-शक्ति और अपने उपर...Blogging, WordPress, SEO and Make Money Celebration
We are social