Indian Airforce Day-भारतीय वायुसेना दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

Follow us on

Indian Airforce Day-भारतीय वायुसेना दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ? एयर फाॅर्स का मतलब क्या होता है ?

India Airforce Day :-  आज वायुसेना दिवस है . वायुसेना क्या होता है . सेना वह होता है जो हमारी देश की सीमा की रक्षा बाहरी दुश्मनों से करता है . जब कोई दुश्मन देश हमें आँख दिखता है तब भारतीय सेना उसका अच्छा से इलाज करती है या फिर जब कोई देश हमारे सीमा पर कोई विवाद खड़ा करता है तब हमारे देश की सेना उसे खदेड़ के भगति है . सेना तीन प्रकार की होती है जल सेना, स्थल सेना और वायु सेना . पहले समय में ये तीनो सेनाए का सञ्चालन अलग अलग होता था लेकिन अब तीनो सेनाए का सञ्चालन एक ही होता है जिसका नाम है चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ. फ़िलहाल सीडीएस अनिल चौहान है .

Indian Airforce Day-भारतीय वायुसेना दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

ये सेना सिर्फ सीमा पर ही नहीं कभी देश के अंदर भी उग्रवाद जैसा माहौल पैदा हो जाता है तब भी देश के अंदर भी हमारी रक्षा करती है या फिर देश के अंदर कई आपातकाल जैसे बाढ़ या महामारी जैसी स्थिति हो जाती है . तब भी यह सेना हमारी रक्षा करती है .

Read Also : शरद पूर्णिमा 2022 के महत्व पूजा-विधि और आधारित पौराणिक कथाएँ

भारतीय वायुसेना की स्थापना कब हुई.

भारतीय वायुसेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 को की गयी थी।जब भारत गुलाम था . लेकिन उस समय इनका नाम रॉयल इंडियन एयरफोर्स  था . लेकिन  स्वतन्त्रता (1950 में पूर्ण गणतंत्र घोषित होने) के बाद इसे इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था और 1945 के द्वितीय विश्वयुद्ध में इसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

हर साल 8 अक्टूबर को वायुसेना दिवस मनाया जाता है। आज ये 90 वां दिवस मना रहा है .भारतीय वायुसेना के किस्से एक से बढ़कर एक है भारत की वायुसेना द्वितीय विश्व युद्ध में शामिल हुई, जिसके लिए किंग जार्ज VI ने सेना को ‘रायल’ प्रीफिक्स से नवाजा था। हालांकि देश की आजादी के बाद जब भारत गणतंत्र राष्ट्र बना तो प्रीफिक्स को हटा दिया गया।

भारतीय वायुसेना का इतिहास

भारतीय वायु सेना दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। गाजियाबाद में स्थित हिंडन वायुसेना स्टेशन एशिया का सबसे बड़ा एयरबेस है। भारतीय वायुसेना के अस्तित्व में आने के बाद से अब तक यह अपने ध्येय वाक्य ‘नभ: स्पृशं दीप्तम्’ के मार्ग पर चल रहा है। इसका अर्थ है ‘गर्व के साथ आकाश को छूना।’ वायु सेना के इस ध्येय वाक्य को भगवत गीता के 11वें अध्याय से लिया गया है। भारतीय वायुसेना का रंग नीला, आसमानी नीला और सफेद है।

कैसे और कहां मनाया गया वायुसेना दिवस?

हिंडन एयरबेस में आज के दिन पुरुष और महिला पायलटों की एक परेड आयोजित होगी फिर इस समारोह में वायुसेना प्रमुख सैन्य कर्मियों को पदक से सम्मानित किया जाता है . इस साल पहलीबार चंडीगढ़ में यह कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है, जिसमें राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भी शामिल हुई .

एयरफोर्स अपने खास-खास विमानों और जवानों के करतब का प्रदर्शन करती है। एयरफोर्स डे के मौके पर शानदार परेड और एयर शो का आयोजन होता है।

भारतीय वायुसेना का शौर्य

भारतीय वायुसेना के किस्से एक से बढ़कर एक है . भारत की आजादी के बाद से अब तक भारतीय वायुसेना कुल 5 युद्ध लड़ चुकी है। इसमें से चार जंग भारत पाकिस्तान के बीच हुईं और एक चीन के खिलाफ लड़ी गई। पाकिस्तान के खिलाफ 1948, 1965, 1971 और 1999 में भारतीय वायुसेना जंग में शामिल हुई। चीन के साथ 1962 के युद्ध में भी भारतीय वायुसेना ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। ऑपरेशन विजय, ऑपरेशन मेघदूत, ऑपरेशन कैक्टस और बालाकोट एयर स्ट्राइक भारतीय वायुसेना के कुछ प्रमुख ऑपरेशनों में शामिल हैं।

वर्तमान समय में भारतीय वायु सेना के बेड़े में सुखोई-30 एमकेआई, मिराज 2000, मिग-29, मिग 27, मिग-21 और जगुआर फाइटर जेट शामिल है। इसके अलावा हेलिकॉप्टर श्रेणी में वायु सेना के पास एमआई-25/35, एमआई-26, एमआई-17, चेतक और चीता हेलिकॉप्टर हैं, जबकि ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट में सी-130 जे, सी-17 ग्लोबमास्टर, आईएल-76, एए-32 और बोइंग 737 जैसे प्लेन शामिल हैं।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.