पिता दिवस पर निबंध-father’s day Essay in Hindi

Father’s day Essay in Hindi-पिता दिवस पर निबंध

पिता दिवस पर निबंध-father’s day Essay in Hindi

पितृ दिवस क्या है-What is Father’s Day

father’s day – जिस प्रकार हम हर साल माँ की सम्मान में मातृ दिवस मानते है, ठीक उसी प्रकार पिता के सम्मान में उसे समाज में इज्जत देने के लिए व्यापक रूप से पितृ दिवस या फादर्स डे मानते है | पिता के महत्वपूर्ण योगदान को याद करके इस त्यौहार को मनाते है | इस दिन जगत के सारे बच्चे अपने पिता के प्रति कृतघ्न होकर मनाते है | इसमें पिता और बच्चों के बीच सम्बन्ध और गहरे होते है |

फादर्स डे विश्व के हर देश में जून महीने के तीसरे रविवार को मनाया जाता है | भारत में फादर्स डे मनाने का चलन पश्चिमी देशों से ही आया है। मगर भारतीय संस्कृति में भी माता पिता को भगवान की तरह पूज्यनीय मन जाता है. माता-पिता के लिए तो सभी बच्चे एक समान ही हैं। मगर ऐसा कहा जाता है कि बेटे अपनी मां के करीब होते हैं तो वहीं बेटियां पिता के दिल का टुकड़ा होती हैं।

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है– father’s day behind story in हिंदी

फादर्स डे सर्वप्रथम 19 जून 1910 को अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में मनाया गया। और आज 2019 में फादर्स-डे के 109 साल पूरे हो गए। इसे मानाने के पीछे एक रोचक कहानी है- जो सोनेरा डोड पर आधारित है |

 

सोनेरा डोड जब एक बच्ची थी , तभी उनकी माँ का देहांत हो गया | माँ के मृत्यु के पश्चात् पिता विलियम स्मार्ट ने सोनेरो को कभी उसके जीवन में मां की कमी नहीं महसूस होने दी और उसे मां का पूरा प्यार दिया।

फिर एक दिन सोनेरा डोड के दिमाग में ये बात आई क्यों न एक दिन पिता के नाम कर दिया जाय | उनके पिता का जन्म दिन भी नजदीक आ रहा था | इसलिए सोनेरा ने यह दिवस जून के पहले रविवार को सोंची थी |

 

इसलिए पहली बार वाशिंगटन में 19 जून 1910 को फादर्स डे मनाया गया | अमेरिकी राष्ट्रपति कैल्विन कोली ने फादर्स डे पर 1924 में मुहर लगाकर अपनी सहमति दे दी। फिर 1966 में राष्ट्रपति लिंडन जानसन ने जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाने की आधिकारिक घोषणा की।1972 में अमेरिका में फादर्स डे पर स्थायी अवकाश घोषित हुआ।

फादर्स डे कब है 2019

रविवार 16 जून

फादर्स डे कब है 2020

रविवार 21 जून

फादर्स डे कब है 2021

रविवार 20 जून

फादर्स डे किस प्रकार करे (how celebrate father’s day)

बच्चों के लिए माँ और पिता दोनों ही महत्वपूर्ण होता है | लेकिन माँ बच्चों के लिए दिल के अत्यधिक करीब होता है | उसके बाद पिता का स्थान होता है | पिता का प्यार माँ के प्यार से कही ज्यादा होता है , लेकिन दिखता नहीं है | पिता का प्यार अन्दर ही अंदर होता है | बच्चें हॅसते है तो पिता हँसता है, लेकिन बच्चें जब रोता है तो पिता का दिल भी अंदर से रोता है | बच्चा को आसमान छूता देखकर पिता का सीना गर्व से 56 ” का हो जाता है , लेकिन जब वह रास्ता भटक जाता है तो पिता अपने आप को कोसता है | यही होता है पिता |

हमें दुनिया में अच्छे-बुरे की पहचान पिता करवाते है | बेटियां अपने पापा के बहुत करीब होती है क्योकि बेटियां पापा की परी होती है | एक पिता के लिए उसकी बेटी किसी राजकुमारी से कम नहीं होती है | बेटा भी पिता की देखरेख में बड़ा होता है और उसके सरे गुण को अपनाता है | हर पिता अपने बेटी की शादी को अपना धर्म समझता है |

पिता बच्चों की ख़ुशी के लिए अपने ख़ुशी को न्योछावर कर देता है | एक पिता के दिल के अंदर अपने बच्चों और परिवार के लिए प्यार, ममता,दया, सद्भावना जैसे कई गुण छिपे होते है | इसलिए हमारे जीवन में पापा का बहुत ही महत्व है | अगर किसी को पापा नहो होता है तो वो इंसान इन सब चीजों से वंचित रह जाता है |

पिता दिवस [Fathers Day] कैसे मानना चाहिए

फादर्स डे मनाने के कुछ तरीकों का वर्णन करते है:-

आजकल बाज़ार में रंग बिरंगी कई तरह के कार्ड उपलब्ध है, जिसे देकर आप अपने पिता का मान बढ़ा सकते है | आप पिता को कोई भी अच्छी सरप्राइज गिफ्ट दे सकते है | फिर पिता के साथ डिनर पार्टी का भी आयोजन कर सकते है | या फिर कही पसंदीदा स्थान पर भ्रमण पर भी जा सकते है |

फादर्स डे का महत्व- Importance of Fathers Day

फादर्स डे का हमारे जीवन में बहुत ही मायने रखता है | लेकिन 21 वी सदी के भागदौड़ वाली जिंदगी में हर कोई अपने सपनों के पीछे बेतहाशा भाग रहा है | किसी भी आदमी के पास समय नहीं है , की वो कोई सा वक्त निकलकर माँ बाप को दे | सभी लोग अपने माँ-बाप से बहुत प्यार करता है |

जब भी कोई आधिकारिक छुट्टी होती है या फिर सरकार द्वारा कोई छुट्टी या अवकाश घोषित होती है तो वे सभी मिलकर एकसाथ बिताते है |  मोठेर्स डे और फादर्स डे दोनों हमारे जीवन में बहुत ही याददास्त और मजेदार दिन है |

फादर्स डे पर कुछ लाइने– Some Special lines about Fathers day

मेरे पापा मेरे लिए एक आदर्श पुरुष है |

वे मेरे हीरो है, और मेरे वे एक अच्छे दोस्त है |

कभी भी कोई प्रोब्लेम्स हो तो वे सदा मेरी मदद करते है |

उनकी कड़ी मेहनत, धैर्य , लगन और सहनशीलता और हमलोगों के प्रति प्यार को देखकर मै उसे सैलूट करता हूँ |

वे एक शांत स्वभाव के तथा बुद्धिमान पुरुष है | वे हमेशा लोगों की मदद करते है |

वे हमारे परिवार के मुखिया है | और वे पुरे परिवार की देखभाल अच्छी से करते है | और सभी को मेलजॉल से रखते है |

मेरे पापा पड़ोसियों के भी अच्छे दोस्त है | वे एक दूसरे का हाँथ बटाते है |

पिता जी का दिल हमारे लिए हमेशा ही प्यार से भरा हुआ है, पिता जी की ऊँगली पकड कर ही हमने चलना सिखा है| पिता जी न होते तो शायद हम कभी इस मुकाम पे न पहुच पाते |

भगवान के रूप में माता-पिता ही हैं जो हमें इस दुनिया में मिलते हैं जिनकी छाया में हमें दुनिया का सबसे बड़ा सुख मिलता है, पिता जी आपकी सेवा ही मेरा सबसे पहला कर्तव्य हैं|

फादर्स डे पर कुछ सबंधित शायरी

आज भी वो प्यारी मुस्कान याद आती है।

जो मेरी शरारतों से पापा के चेहरे पर खिल जाती थी।

अपने कन्धों पर बैठाकर वो मुझे दुनिया की सैर कराते थे।

जहां भी जाते मेरे लिए ढेर सारे तोहफे लाते थे।

मेरे हर जन्मदिन पर वो मुझे साथ मंदिर ले जाते थे।

मेरे हर रिजल्ट का बखान पूरी दुनिया को बताते थे।

मेरी जिंदगी के सारे सपने उनकी आँखों में पल रहे थे।

मेरे लिए खुशियों का आशियाना वो हर पल बन रहे थे।

मेरे सपने उनके साथ चले गए मेरे पापा मुझे छोड़ गए।

अब आँखों में शरारत नहीं बस आंसू ही दीखते हैं।

एक बार तो वापस आ जाओ पापा।

हैप्पी फादर्स डे तो सुन जाओ पापा।

some lines on father’s day in हिंदी

पिता एक उम्मीद है, एक आस है

परिवार की हिम्मत और विश्वास है,

बाहर से सख्त अंदर से नर्म है

उसके दिल में दफन कई मर्म हैं।

पिता संघर्ष की आंधियों में हौसलों की दीवार है

परेशानियों से लड़ने को दो धारी तलवार है,

बचपन में खुश करने वाला खिलौना है

नींद लगे तो पेट पर सुलाने वाला बिछौना है।

पिता जिम्मेवारियों से लदी गाड़ी का सारथी है

सबको बराबर का हक़ दिलाता यही एक महारथी है,

सपनों को पूरा करने में लगने वाली जान है

इसी से तो माँ और बच्चों की पहचान है।

पिता ज़मीर है पिता जागीर है

जिसके पास ये है वह सबसे अमीर है,

कहने को सब ऊपर वाला देता है ए संदीप

पर खुदा का ही एक रूप पिता का शरीर है।

पापा तुम कितने अच्छे हो

तुम कितने अच्छे हो।

बड़े हो गए इतने लम्बे।

मगर अभी मन से बच्चे हो।

पापा तुम कितने अच्छे हो।

दीदी के प्यारे मास्टर जी।

भैया के हो जिगरी दोस्त।

घोड़ा बनकर हमें बिठाते।

और खिलाते मक्खन टोस्ट।

Related post-
Spread the love

Leave a Comment

13 + one =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.