Essay on International Yoga Day-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध-International Yoga Day

Essay on International Yoga Day-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध

योग दिवस की शुरुआत 15 जून 2015 से हुई | इससे पहले दुनिया के लोग शायद योग को जानते होंगे | लेकिन इस दिन के बाद विश्व में सारे लोग योग को अच्छी तरह से जान गए |

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के जन्मदाता माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को जाता है | विश्व भर में इसे शुरुआत करने में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का अहम् योगदान रहा है | उन्होंने ही सर्वप्रथम योग दिवस की शुभारम्भ 21 जून 2015 को करवाया | भारत में इस दिन का आयोजन आयुष मंत्रालय द्वारा किया जाता है |

United Nation में प्रधानमंत्री मोदी ने योग करने से होने वाले लाभ और इसके महत्व को विश्व भर में सभी लोंगो को समझाया | इसलिए समस्त विश्व के लोग उत्साहित होकर पूरा जोश के साथ योग दिवस को मानते है |

योग दिवस करने का मुख्य उद्देश्य यह है की समूचे विश्व को योग के द्वारा स्वास्थय और तंदुरस्त बनाना | इस काम के भारत देश का योगदान सर्वप्रथम है |

इस दिन करोड़ों लोगों ने विश्व में योग किया जो कि एक रिकॉर्ड था। योग व्यायाम का ऐसा प्रभावशाली प्रकार है, जिसके माध्याम से न केवल शरीर के अंगों बल्कि मन, मस्तिष्क और आत्मा में संतुलन बनाया जाता है। यही कारण है कि योग से शा‍रीरिक व्याधियों के अलावा मानसिक समस्याओं से भी निजात पाई जा सकती है।

योग शब्द की उत्पत्त‍ि संस्कृति के युज से हुई है, जिसका मतलब होता है आत्मा का सार्वभौमिक चेतना से मिलन। योग लगभग दस हजार साल से भी अधिक समय से अपनाया जा रहा है। वैदिक संहिताओं के अनुसार तपस्वियों के बारे में प्राचीन काल से ही वेदों में इसका उल्लेख मिलता है। सिंधु घाटी सभ्यता में भी योग और समाधि को प्रदर्श‍ित करती मूर्तियां प्राप्त हुईं।    

 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-Long and Short Essay   

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 1 (250 शब्द)    

जैसा की आप सभी जानते है की अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र संघ में सितम्बर 2014 में रखा था | उन्हें इस प्रस्ताव के लिए दुनिया भर से विभिन्न योग चिकित्सकों एवं आध्यात्मिक नेताओ द्वारा समर्थन प्राप्त था | ये सब देखते हुए राष्ट्र संघ ने 11 दिसंबर 2014 को प्रस्ताव पास किया कि हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जायेगा |

Essay on International Yoga Day-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध

पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पुरे विश्व भर में बहुत भी धूम-धाम से मनाया गया | लेकिन भारत में नै दिल्ली स्थित राजपथ में यह स्थल एक उत्साह जैसा था। इस दिवस को मनाने के लिए हजारों की तादाद में लोग जनपथ पर एकत्रित हुए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ दुनिया के विभिन्न हिस्सों के कई नमी गिरामी लोग भी इस आयोजन का हिस्सा बने और यहां योग आकर आसनों का अभ्यास किया।

योग कोई नई वस्तु नहीं है | यह प्राचीन कल से ही लोग किया करते थे | योग के बारे में तपस्वियों के बारे में प्राचीन काल से ही वैदिक संहिता में इसका उल्लेख मिलता है | हिन्दू धर्म में साधु, संतो तथा तपस्वियों द्वारा आज भी योग नियमित रूप से करते है | लेकिन आप लोग अभी तक इसको अपना नहीं पाया है , क्योकि वे इसका फायदा और इसके महत्व को नहीं जानते है |

योग हमारे जिंदगी में बहुत ही अच्छी चीज है | इसे नियमित रूप से करने से आप व्यस्त, तनावपूर्ण और अस्वस्थ जिंदगी से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है |

प्रधानमंत्री मोदी का योग शुरू करने का मुख्य लक्ष्य यही है कि विश्व के सारे लोग सुखी और स्वस्थय जिंदगी जी सके |

योग मन, शरीर और आत्मा की एकता को सक्षम बनाता है। योग के विभिन्न रूप हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को विभिन्न तरीकों से लाभान्वित करते हैं। इस अनूठी कला का आनंद लेने के लिए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है।     

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के बारे में जानकारी

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध 2 (600 शब्द )

योगा क्या है ? यह एक प्रकार का व्यायाम है , जिसमे मन मस्तिष्क और आत्मा को एकाग्रचित करके किया जाता है | जिससे करने से मन मस्तिष्क और आत्मा में एक संतुलन बनता है | और यही कारन है की नियमित योगा करने से शा‍रीरिक व्याधियों के अलावा मानसिक समस्याओं से भी निजात पाई जा सकती है। इसमें कोई शक नहीं |

प्रथम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

प्रथम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भारत के साथ-साथ दुनिया के कई देशों ने बड़े ही उत्साह से मनाया | प्राचीन समय में जो योगा किया जाता था उसे दुनिया के सामने लाने का श्रेय भारत के प्रधानमंत्री को जाता है , यह हमारे लिए बहुत गर्व की बात है |

प्रथम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मानाने के लिए दिल्ली के राजपथ मार्ग पर बहुत बड़ा आयोजन किया गया | प्रथम दिन को यादगार बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया का कई बड़े-बड़े हस्तियों को निमंत्रण देकर बुलाया | जिन्होंने 84 देशों से आए कई हस्तियों ने योगा दिवस पर भाग लिया | इसके आलावा सामान्य जनता ने भी इस महोत्सव में भाग लिया | इस दिन कुल 21 योगाशन कराये गए |

Read:- Fathers Day Essay.

देश के बड़े शहरों के आलावा छोटे-छोटे कस्बो में भी योगा दिवस मनाया गया | इसी दिन एनसीसी कैडेटों ने लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में “एकल वर्दीधारी युवा संगठन द्वारा एक साथ सबसे बड़ा योग प्रदर्शन” कर अपना नाम दर्ज करवाया।

यह एक अच्छी शुरुआत रही विदेशों में भी योगा दिवस को बहुत ही उत्साह से मनाया गया | हम भारतियों के लिए यह गर्व की बात है की हमारी कला और संस्कार के गुणगान पूरा विश्व करता है | हमारी कला और संस्कृति को पूरा विश्व स्वीकार करता है | और हमारा देश भविष्य में विश्व को एक अच्छी राह दे सकता है |

जीवन में योग का महत्व निबंध

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 की थीम

चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2018 को मनाया गया | योग से होने वाले शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक लाभों के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया | योगा एक संस्कृत भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है शामिल होना या एकजुट होना | और शरीर और मन की चेतना का मिलान करना | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 (International Yoga Day 2018) का थीम था “शांति के लिए योग”।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 की थीम

21 जून 2015 को पूरी दुनिया पाँचवा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस  मानाने के लिए तैयार है | और हर साल की भांति 2019 का थीम है “क्लाइमेट एक्शन” (यह थीम  UN.org द्वारा बताया गया ) है। क्योकि योगा करने से जलवायु परिवर्तन का समाधान मिल सकता है |

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 की थीम

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 थीम है Yoga for Health – Yoga at Home. COVID-19
‘घर में रहते हुए अपने परिवार के साथ योग करना’।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 की थीम

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021का थीम है “Yoga for well-being”.

योग के लाभ

वैसे तो योग से बहुत लाभ है | इससे आपके मन मस्तिष्क और इन्द्रिया एकाग्रचित होकर संतुलन बनती है , जिससे आपके शरीर के रोग गायब हो जाता है और आपकी इन्द्रियां पूर्ण स्वस्थ्य हो जाती है |

रोजाना योग करने से आपकी ध्यान क्षमता बढ़ जाएगी और याद्दाशत और प्रोडक्टिविटी अपने आप बढ़ जाएगी |

योगाशन ने आपके मांशपेशियां का दर्द दूर होकर मजबूत हो जाएगी और आप पूर्ण स्वस्थ्य महशुश करेंगे |

योग अपने मन और शरीर को स्थिर करता है और शांति और आनंद से आपको भर देगा |

इसके अतिरिक्त यह फायदेमंद हैं –

शरीर को तंदुरस्त रखने के लिए

ऊर्जा में बेतहाशा वृद्धि के लिए

शरीर को लचीला और फूर्तिवान बनाने के लिए

बेहतर सम्बन्ध के लिए

वजन घटने के लिए

अगर आप नियमित रूप से योग करते है तो आपका मन मस्तिष्क और शरीर आश्चर्य रूप से काम करेगा |  दुनिया भर के योग चिकित्सक अपने नियमित जीवन में योग को प्रोत्साहित करने के लिए लोगों से आग्रह करते हैं।  ताकि योग को सभी लोग करे और पूरी दुनिया स्वस्थ्य रह सके |

Spread the love

Leave a Comment

9 + 13 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.