Essay on Education-शिक्षा पर निबंध कैसे लिखें

Essay on Education-शिक्षा पर निबंध

Essay on Education-शिक्षा पर निबंध कैसे लिखें

मनुष्य का जीवन प्रकृति की अमुल्य भेंट है । इसलिए जीवन के असली महत्व को समझने के लिए शिक्षित होना या शिक्षा के महत्व को समझना बहुत जरुरी है । क्योकिं इसके बिना जीवन की कल्पना नही की जा सकती है ।  शिक्षा इंसान के अंदर अच्छे-बुरे के बारे सोचने, समझने और सीखने की क्षमता विकसित होती है और वह अपने जीवन में आगे बढ़ता है।

शिक्षा पर निबंध बच्चों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है । छात्रों को स्कूल और कालेज में, अक्सर इस विषय पर निबंध प्रतियोगिता दिया जाता है। इसे ध्यान में रखते हुए हमने यहाँ विभिन्न शब्दों पर निबंध उपलब्ध कराए हैं, जिनमें से किसी भी निबंध को आप अपनी जरूरत और आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं।

Education Essay 1 (150 Word)

शिक्षा क्या है ? यह एक माध्यम है जिसके द्वारा दुनियां के किसी भी चीज के बारे में हम जान सकते है । अगर हम शिक्षित है तो किसी भी समस्या के बारे में गहराई से जानकर उसके बारे में उचित समाधान निकाल सकते है । शिक्षा हर वर्ग के लिए बहुत ही जरुरी है । ये उनका जन्म सिध्द अधिकार है । शिक्षा के बिना हमारी जिदंगी बेकार और कोई काम का नही है ।

अगर हम शिक्षित है तो हम अपने ज्ञान, बुध्दि, विवेक और हिम्मत को और भी डेवलप कर सकते है । शिक्षा है ही जो हमें समाज और देश के लिए कुछ करने का संदेश देती है ।

शिक्षा का अर्थ केवल पुस्तकों का ज्ञान ही काफ़ी नही है । शिक्षित व्यक्ति ज्ञान , कॉमन सेन्स तथा व्यवहार कुशल में दक्ष होता है । वह क्या सही है और क्या गलत वही भलीभांति जानता है । शिक्षा के साथ-साथ हर किसी को व्यवहार में कुशल होना चाहिए ।

स्कुल और कॉलेजों में बच्चों को शिक्षा के साथ अन्य कई बिषयों पर ज्ञान दिया जाता है , जिससे उसका मांसिक विकास हो सके ।

इसलिए बचपन से ही अभिभावक बच्चों के शिक्षा को लेकर चिंतित रहते है । और यह प्रयास करते हैं कि उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके, ताकि वह अपने जीवन में सफल हो सके।

Education Essay 2 (250 Word)

मानव और पशु में क्या अन्तर है, कोई बता सकता है ? शिक्षा ही है जो मनुष्य को पशु से अलग करती है । जो काम मनुष्य करता है वही काम पशु भी करता है, तो फ़िर क्या । लेकिन एक काम है जो एक शिक्षित मानव करता है वह पशु नही करता है । वह है सही सौंच और भाई-चारा, व्यवहार कुशल ।

शिक्षा का कई अर्थ है  । एक अशिक्षित और शिक्षित मनुष्य में बडा अन्तर होता है । शिक्षित मनुष्य का पुरा परिवार , बच्चें सभी पढा-लिखा होता है । वह हर काम नियोजित ढंग से करता है । उसके चाल-चलन, रहन सहन सभी से बेहतर होता है ।

बच्चों की प्रथम पाठशाल परिवार होता है । फ़िर बच्चें स्कुल में जाते है , वहां शिक्षक द्वारा उसे शिक्षा के बारे में बताते है । और शिक्षा से सबंधित सारी बिषयों जैसे- हिन्दी, गणित, विज्ञान, ईतिहास, भुगोल और नागरिक शास्त्र को सिखाते है ।

जिस तरह हमें जिन्दगी जीने के लिए भोजन , पानी अहु हवा की जरुरत है , ठीक उसी प्रकार शिक्षा हमारे जीवन के लिए बहुत जरुरी है। शिक्षा हमारे जीवन में महत्वपुर्ण भुमिका अदा करता है । यह आम आदमी के जीने का अधिकार है । शिक्षा से ही हम जीने के नये-नये तरीके सिखते है ।

अगर आप अच्छे शिक्षा लेते है तो इससे आपका केरीयर के कई रास्ते अपने आप खुलते जाते है । शिक्षा से ही हम अपना, समाज  और देश का कल्याण कर सकते है । इसलिए हमें शिक्षा पर बिशेष ध्यान देना चाहिए । तभी देश, समाज और मानव का कल्याण हो सकता है ।

पढ़ें- माँ दुर्गा के नौ रूपों की कहानी

Education Essay 3 (350 Word)

शिक्षा एक सभ्य समाज की नीव है । अगर आप कोई घर बना रहे है तो अगर उसका नींव कमजोर होगा तो वह ज्यादा दिन तक नही चलेगा । शिक्षा पर सभी बात करते है लेकिन सही रुप से कोई नही जानता है कि यह शिक्षा आखिर क्या बला है ।

शिक्षा मानव सभ्यता की विकास की नींव है । जिसके सहारे वह जीवन में सभी जगह सफ़लता पाता है । एक शिक्षित व्यक्ति के अंदर बहुत सारे गुण होते है । शिक्षा के अभाव से हम विभिन्न क्षेत्रों में कौशल नही प्राप्त कर सकते है । शिक्षा हमारे जीवन और अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण हैं।

बच्चों को कक्षा में शिक्षा पर निबंध लिखने को दिया जाता है । वे इसे बखुबी से लिख पाते है ।

एक शिक्षित व्यक्ति के संपर्क में रहने से ज्ञान का विस्तार होता है। शिक्षा राष्ट्रीय विकास प्रक्रिया को सुद्रढ़ बनाती है। शिक्षा से अच्छी राजनीतिक विचारधारा का विकास होता है। अपने नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार होता है।

शिक्षा के मूल्य और इसके महत्व को इस तथ्य से समझा जा सकता है कि जैसे ही हम पैदा होते हैं, हमारे माता-पिता हमें जीवन में एक आवश्यक चीज के बारे में शिक्षित करना शुरू कर देते हैं।

शिक्षा सभी देश के लिए बहुत जरुरी है । इसके बिना देश, राज्य तथा समाज का कल्याण नही हो सकता है ।

सभी कारणों से भी शिक्षा हम सबके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इससे हम एक अच्छा और स्वस्थ जीवन जीने में मदद मिलती है। शिक्षा हमें विभिन्न प्रकार के भोजन के उपयोग और उनका उपभोग करने के तरीके जानने में मदद करती है। यह हमें इस बारे में भी शिक्षित करता है कि कैसे खुद को बीमारियों से बचाएं और बुरी आदतों से दूर रहें। हमारे लिए और अपने देश की रक्षा के लिए शिक्षा भी महत्वपूर्ण है।

Essay on Education (500 Words)

शिक्षा पर हर किसी का अधिकार है । शिक्षा किसी दुकान में नही मिलता है । आखिर ये शिक्षा क्या है ? शिक्षा और विध्या एक दुसरे के पुरक है ।

आपने सही सुना , शिक्षा सभी के लिए है चाहे वो गरीब हो या अमीर है, राजा है या रंक है । शिक्षा एक अनमोल वस्तु है, जिसे कठिन परिश्रम से पा सकते है ।

पुराने समय में शिक्षा ग्रहण करने के लिए ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए गुरु के आश्रम में ही रहना पडता था । गुरु के आश्रम मे उनहे साहित्य, गणित, राजनितिक तथा अस्त्र-शस्त्र चलाने की शिक्षा दी जाती थी । गुरु से शिक्षा केवल राजा के पुत्र ही लेते थे । आपने रामायण या में देखा होगा , भगवान राम चारों भाईयों के साथ विश्वामित्र मुनि के आश्रम में रहकर ही शिक्षा पाई थी । और शिक्षा समाप्त हो जाने के बाद ही अपने राजमहल में लौटे थे वो भी गुरु-दक्षिणा देने के बाद ।

महाभारत में भी गुरु द्रोणाचार्य ने कौरवों और पांडवों को शिक्षा दी थी । और उनहोने भी   गुरु-दक्षिणा द्रोणाचार्य को दिया था ।

लेकिन आधुनिक समय में ऎसा नहॊ होता है । हम छोटे बच्चें को स्कुल में नामांकन करवाते है और वो बच्चा रोज घर से ही स्कुल आता जाता है । और उनहे इस प्रकार शिक्षा पुरा करना पडता है । जिस तरह बच्चें आगे शिक्षा पुरी होती जाती वे आगे की कक्षाऒं में बढते जाते है ।

शिक्षा से हमारा नैतिक विकास होता है । शिक्षा ही है जो हमें पशु से अलग करती है । एक शिक्षित मानव कार्यकुशल और तेज-तरार्र होता है ।

शिक्षा दुनिया भर के लोगों के जीवन का संतुलन और पृथ्वी पर अपने अस्तित्व बनाने के लिए के लिए बहुत महत्वपूर्ण हथियार है। इससे हर कोई आगे बढने के लिए Excited रहता है और जीवन में सफल होने के साथ-साथ जीवन में चुनौतियों का सामना करने की क्षमता प्रदान करने के लिए है। यह एक और ज्ञान प्राप्त करने और जरूरत के हिसाब से किसी विशेष क्षेत्र में अपने कौशल में सुधार करने के लिए एक ही रास्ता है। यह हमें हमारे शरीर, मन और आत्मा का अच्छा संतुलन बनाने के लिए सक्षम बनाता है।

शिक्षा से लोगों के दिमाग विकसित होता है और वे कुछ कर गुजरने की ताकत उसके अन्दर आती है । इससे समाज के सभी मतभेदों तथा छुआछुत जैसी बीमारी दूर होती है । शिक्षा जीवन के हर पहलू को बारीकी से समझने में मद्द करती है।

स्त्री हो या पुरुष, हर किसी के लिए शिक्षा का समान अधिकार है । क्योंकि सभी एक साथ मिलकर एक सभ्य और शिक्षित समाज का निर्माण कर सकते हैं। यही नहीं बेहतर भविष्य के लिए शिक्षा बेहद जरूरी है।

देश के विकास और प्रगति के लिए भी शिक्षा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। क्योंकि देश क नागरिक ही देश के बेहतर भविष्य और विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं। उच्च शिक्षित लोग ही विकसित देश का आधार बनते हैं। शिक्षा लोगों को परिपूर्ण और महान बनाती है।

भारत सरकार ने शिक्षा व्यवस्था को दुरस्त करने के लिए कई योजनाएं ला रही है । शिक्षा के बोर्ड में परिवर्तन ला रही है । रोजगार के लिए शिक्षा के नए-नए उपाय किए जा रहे है ।

अत: हम सबको चाहिए कि सरकार को उसके कदम की सरहना करना चाहिए तथा उसका हमें भरपुर फ़ायदा लेना चाहिए तभी देश का, समाज का तथा आम आदमी का कल्याण हो सकता है ।

Spread the love

Leave a Comment

11 + eighteen =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.