Mother’s day par Nibandh Hindi Mein- मातृ दिवस पर संदेश लेखन

मातृ-दिवस पर निबंध – Mother’s Day par Nibandh in Hindi 

Mother’s day par Nibandh :- माता हमारी जननी होती है । और मां के बिना हम जीवन की कल्पना भी नही कर सकते है । हम सभी अपनी माँ की सम्मान देने के लिए हर साल 08 मई को मातृ-दिवस मनाते हैं । माँ बच्चे के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है . माँ एक सच्चा साथी और दोस्त होती है . वह बच्चों का प्रथम पाठशाला होती है . उनके चरणों में जन्नत होती है . माँ की ममतामयी आंचल और उनकी प्यार का कोई मोल नहीं होता है .

Mother’s day par Nibandh Hindi Mein- मातृ दिवस पर संदेश लेखन

मातृ-दिवस हम सभी अपने माँ को समर्पित करते हुए मानते है | इस दिन को हम सभी बड़े ही हर्ष और उल्लास से मानते है | मातृ-दिवस हर साल मई महीने के दूसरा रविवार को मानते है | इस दिन हम सभी माँ के महिमा को दुहराते है और उन्हें बधाई देते है | और हम इस article में मातृ-दिवस पर एक लघु निबंध लिख रहे है .

Mothers Day Essay in Hindi – मातृ दिवस पर निबंध हिंदी में

हर बच्चों को अपने माँ  से बेहद प्यार होता है , क्यों नहीं और होना भी चाहिए | मातृ-दिवस के अवसर पर स्कूल में बच्चों को उसके शिक्षक द्वारा निबंध लिखने को कहा जाता है | इस लेख में हमने मातृ-दिवस  पर निबंध सरल भाषा ने अलग अलग विभिन्न रूपों में लिखा गया है , जिससे आप कोई भी निबंध चुन सकते है|

मातृ-दिवस पर निबंध 1 (100 शब्द)

मदर्स डे एक बच्चें और उनके माँ के लिए बहुत ही यादगार दिन होता है | विद्यार्थिओं के लिए यह दिन बहुत ही यादगार दिन होता है | बच्चों के लिए माँ बहुत ही प्यारी होती है | और उसी के यादगारी में मदर्स डे मनाया जाता है इससे बढ़कर और ख़ुशी क्या हो सकती है | यह दिन दुनिया भर के सभी माताओं को समर्पित होता है | यह त्यौहार मई महीने के दूसरे रविवार के दिन मनाये जाते है |

बच्चें इस दिन को अपने स्कूल या फिर अपने घर में अपने माँ के सामने मानते है| और माँ को प्यार से ये ख़ुशी या उपहार स्वरूप देतें है | माँ भी प्यार से बच्चे के सर पर हाथ फेरती है और आशीर्वाद देती है |

मातृ-दिवस पर निबंध 2 (150 शब्द)

संसार के सभी माताओं को मदर्स डे को सम्मान देने तथा उसके मातृत्व को सम्मान के लिए मनाया जाता है |   इस दिवस को हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को बड़े ही प्रेम से बच्चों के द्वारा मनाया जाता है | इस त्यौहार को स्कूल में मनाया जाता है | सरे बच्चे सुबह से स्कूल में इकठ्ठा होने लगते है| और माताओं को एक दिन पहले ही आमंत्रित किया जाता है | शिक्षक भी छात्रों के साथ अपने गतिविधियों से कार्यक्रम की तयारी करते है |

स्कूल में सांस्कृतिक प्रोग्राम किये जाते है | बच्चें वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेते है | कुछ बच्चें हिन्दी एवं इंग्लिश में कविता या स्पीच तैयार करके लाते है | निबंध लेखन, हिन्दी और इंग्लिश में बातचीत की कुछ पंक्तियाँ, भाषण, इत्यादि तैयार करते हैं। इस दिन सभी माँ अपने बच्चों के स्कूल जाती है और इस उत्सव में शामिल होती है। सभी माताओं के स्वागत के लिए शिक्षक भी बच्चों के साथ मिलकर क्लास्सरूम को सजाकर उनका स्वागत करते है |

मातृ-दिवस पर निबंध 3 (200 शब्द)

 

एक बच्चों के लिए माँ ही सबकुछ होता है, इस बात को सभी जानते है | और क्यों नहीं | माँ एक ममता की तस्वीर है | माँ के बच्चों के लिए भगवान का वरदान है| क्योकि अगर माँ नही होती तो उसका जन्म नहीं होता |

मदर्स डे हर बच्चा अपने माँ के लिए उसको मातृत्व को सम्मान देने के लिए मनाता है | बच्चों के प्रति माँ की बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है | हिंदी महीने के अनुसार हर साल मातृ दिवस चैत्र या फिर मई महीने में दूसरे रविवार को मानते है | आज कल बच्चों अपने माँ को मातृ दिवस पर ग्रीटिंग्स कार्ड्स, विशिंग कार्ड्स आदि देकर ख़ुशी का इजहार करते है |

पुरे परिवार में ख़ुशी का माहौल हो जाता है | इस दिन परिवार के सरे सदस्य बहार जाकर खाना कहते है और मजा करते है | माँ भी अपने बच्चा के लिए उसके पसंद का पकवान बनाते है जैसे- मैग्गी, चाउमीन , खीर, पनीर , मलाई आदि |

उत्सव के बाद नाच गान का भी प्रोग्राम होता है | बच्चे तरह तरह के वाद विवाद में भाग लेते है जैसे- निबंध लेखन, स्पीच, कविता बोलना तथा मौखिक बातचीत आदि | फिर उन बच्चे को शिक्षक द्वारा उनके माँ के हांथो से पुरुस्कृत किया जाता है | और इस प्रकार से समापन होता है |

मातृ दिवस बच्चों के लिए बेहद की ख़ुशी का दिन होता है | बच्चे अपने माँ को इसे समर्पित करते है |   माँ बच्चों की सबसे अच्छी दोस्त होती है क्योंकि वह बच्चों के हर गतिविधियों पर ध्यान रखती है जिसकी हमें जरुरत होती है। इसलिये, माँ  को दिल से धन्यवाद और आदर देने के लिये वर्ष का एक दिन चुना गया है ।  जिसे हर साल हम सभी मातृ-दिवस के रुप में मनाते है।

बच्चें बिना अपनी माँ के प्यार-दुलार और देख-भाल के नहीं रह सकते हैं। वह हमारा बहुत ध्यान रखती है ।   इस संसार में माँ ही एकमात्र इंसान होती है जो हमें कभी अकेला नहीं छोड़ती। हमेश अपने सीने से लगा के रखती है ।

मातृ-दिवस पर निबंध 4 (300 शब्द)

भारत में हर वर्ष मई महीने के दूसरे रविवार यानी 12 मई को मदर्स डे मनाते है ।  इस दिन परिवार के सभी सदस्य माँ को उपहार देते है तथा ढ़ेर सारी बधाईयाँ देते है। हमारे लिये माँ हर वक्त हर जगह मौजूद रहती है। हमारे जन्म लेने से उनके अंतिम पल तक वो हमारा किसी छोटे बच्चे की तरह ख्याल रखती है। हम अपने जीवन में उनके योगदानों की गणना नहीं कर सकते है।

माँ के पास बहुत सारी जिम्मेदारियाँ की बोझ होती हैं वो उसको लगातार बिना रुके हुए और बिना थके निभाती है। वो एकमात्र ऐसी इंसान है जिनका काम बिना किसी तय समय और कार्य के तथा असीमित होती है। हम उनके योगदान के बदले उन्हें कुछ भी वापस नहीं कर सकते हालाँकि हम उन्हें एक बड़ा सा धन्यवाद कह सकते है साथ ही उन्हें सम्मान देने के साथ ध्यान भी रख सकते है। हमें अपनी माँ को प्यार और सम्मान देना चाहिये तथा उनकी हर बात को मानना चाहिये। यह दिन माँ  और बच्चों दोनो के लिए बहुत ही खाश और खुशी क दिन होत है । क्योंकि बच्चा अपने माँ  को कुछ उपहार स्वरुप भेंट करता है।

मेरी माँ हमें सुबह-सुबह जल्दी उठाती है, तथा ब्रश और नहाने में भी हमे मदद करती है ।  पुन: नाश्ते और स्कूल के लिये लंच तैयार करती है । इसके अलावा ड्रेस पहनाना, हमे स्कुल तक छोडना , गृह कार्य में मदद करना, समय पर खाना, दूध और फल देना, बीमार होने पर सही समय पर दवाईयाँ देना तथा ढ़ेर सारे लज़ीज़ पकवान बनाना, कपड़े धोना और इस्त्री करना, हमारे साथ घर या मैदान में फुटबॉल खेलना, रात में सही समय पर सुला देना, रात का अच्छा खाना बनाना और ढ़ेर सारे क्रियाओं से हमारे जीवन को सफल बनाती है। वास्तव में हम अपनी माँ के रोज के कार्यों की गणना नहीं कर सकते। वह पूरे दिन हमारे लिये असीमित कार्य करती है। परिवार के सभी सदस्यों के सभी कार्यों के लिये सिर्फ वह ही जिम्मेदार होती है। इसलिये हम कह सकते है कि माँ हम सबके लिए महान होती है।

मातृ-दिवस पर निबंध 5 (400 शब्द)

हम भारत देश में रहते है । हमारे देश में मां की बहुत महिमा होती है । हमारे देश में नारी की पुजा होती है । और बच्चों की बात करें तो मां उनके लिए तो सब कुछ होती है । बच्चें जब मां के गर्भ मे से लेकर जन्म और जन्म से लेकर जब तक वो जीवित होती है , वो अपने बच्चें से बहुत मुहब्बत करती है । मां अपने बच्चे के लिए सुरक्षा कवच होती है । अगर उनका बच्चा कभी बीमार हो जाए तो उसे ठीक करने के लिए वो कुछ भी कर सकती है ।

मदर डे हर साल १२ मई को मनाया जाता है । बच्चें मदर डे को मनाकर अपने मां को सम्मान देता है, जिसकी वो हकदार है । मदर डे या मातृ दिवस विभिन्न देशों में अलग अलग दिन में मनाया जाता है । मातृ दिवस स्कुल के प्रांगण में या किसी प्र्सिध सार्वजनिक स्थान में मनाया जाता है । इस दिवस पर तो बहुत बडा प्रोग्राम तो नही होता लेकिन हां लेकिन थोडी बहुत सजावट तो हॊती है । स्कुल के सभी बच्चें और शिक्षक मिलकर इस प्रोग्राम का रुप देते है ।

स्कुल में बच्चों के विकास के लिए वाद-विवाद, निबंध लेखन , गाना-बजाना तथा दौड आदि का प्रोग्राम होता है । और विजेता छात्र को उसके मां के हांथों से ही पुरुस्कृत किया जाता है । मां अपने पुत्र को गले से लगाकर आशीर्वाद भी देती है । पुरा वातावरण मां के ममता से भर उठता है ।

बच्चें भी अपने मां को ढेर सारी उपहार भेंट करता है । हमारी खुशी के लिये माँ स्कुल में नृत्य, गायन, कविता पाठ, भाषण आदि जैसे कई सारे क्रियाओं में भाग लेती है। अपनी माँ और शिक्षक के समक्ष हम भी इस उत्सव में भाग लेते है (जैसे कविता पाठ, निबंध लेखन, भाषण, गायन, नृत्य आदि) और अपनी प्रतिभा दिखाते है। हमारी माँ स्कूल में अपने साथ ढ़ेर सारे स्वादिष्ट पकवान ले आती है। उत्सव के समापन पर, अपनी माँ और शिक्षक के साथ उन लज़ीज़ व्यंजनों का आनन्द उठाते है। हमारी माँ के द्वारा हमें ढ़ेर सारे पकवान खाने को मिलते है। सभी मिलकर खाते है और खिलाते है । और इस प्रकार मातृ दिवस को मनाते है ।

We live in the country of India. Mother in our country is very proud. Worship of women is done in our country. And talking to children, the mother has everything for them. When children are born from the mother’s womb to birth and birth until they are alive, they love their children very much. Mother is a protective shield for her child. If his child is ill then he can do anything to fix it.

Mother Day is celebrated every year on May 12. Children respect Mother Mother, who respects her mother, whom she deserves. Mother’s Day or Mother’s Day is celebrated in different countries on different days. Mother’s day is celebrated in the courtyard of the school or in a reputed public place. There is not a big program on this day, but yes, a lot of decoration happens. All the children and teachers of the school together form this program.

The school has a program of debate, essay writing, singing and jogging, etc. for the development of children. And the winning student is rewarded with the hands of his mother. The mother blesses her son with the throat. The whole atmosphere is filled with the mother’s affection.

Children also offer a lot of gifts to their mothers. For our pleasure, Mother participates in many activities like dance, singing, poetry lessons, speech, etc. in school. In front of our mother and teacher, we also participate in this festival (such as poetry lessons, essay writing, speech, singing, dance, etc.) and show our talent. Our mother brings a lot of delicious dishes with her to school. At the conclusion of the celebration, they enjoy those delicious dishes with their mother and teacher. With our mother, we get enough food to eat. All eat together and feed. And thus celebrate Mother’s Day.

Spread the love

Leave a Comment

two × two =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.