Gudi Padwa Festival 2021- गुड़ी पड़वा क्यों मनाया जाता है

Gudi Padwa Festival 2021: गुड़ी पड़वा नाम का क्या अर्थ है.गुड़ी पड़वा क्यों मनाया जाता है

गुड़ी पड़वा (Gudi Padwa) एक त्यौहार है . आप सभी जानते ही है की भारत देश त्योहारों का देश कहा जाता है .यह त्यौहार नया बर्ष के शुरुआत का प्रतीक है . जब नया साल की शुरुआत होती है तब इसे मनाते है. और अलग अलग राज्यों में अलग अलग नामों से मनाया जाता है . गुड़ी पड़वा का अर्थ होता है विजय पताका यानि गुड़ी का मतलब होता है विजय और पड़वा का अर्थ होता है पताका .

Gudi Padwa Festival 2021- गुड़ी पड़वा क्यों मनाया जाता है

यह त्यौहार चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाता हैं चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही हिन्दू नव वर्ष का आरंभ माना जाता हैं. चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को गुड़ी पड़वा या वर्ष प्रतिपदा या उगादि (युगादि) कहा जाता है। ‘युग‘ और ‘आदि‘ शब्दों की संधि ‘युगादि‘ शब्द बनता हैं। यानी हिन्दू धर्म के अनुसार चैत्र मास से ही नया बर्ष शुरू होता है .

गुड़ी पड़वा का त्यौहार क्यों मनाते है.

आज गुड़ी पड़वा का त्यौहार है . यह त्यौहार हर साल 25 मार्च को बुधवार के दिन ही मनाया जाता है. इसका मनाने का बिशेष अर्थ होता है.  गुड़ी का अर्थ होता है विजय पर्व यानि विजय का उत्सव और पड़वा का अर्थ होता है प्रतिपदा .

अगर हिंदी महीने के अनुसार देखा जाय तो यह त्यौहार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष को प्रतिपदा के दिन इसे मनाया जाता है. इस त्यौहार को विजय पर्व या विजय उत्सव भी कह सकते है . क्योकि इस दिन भगवन राम ने बालि पर विजय पाई थी .

इसलिए इस दिन घर को अच्छी तरह से सजाकर भगवान श्रीराम , नवदुर्गा तथा हनुमान जी को विधिपूर्वक नैवेध चढ़ाकर पूजा की जाती है .

गुड़ी पड़वा का अर्थ क्या है.

गुड़ी पड़वा का अर्थ है विजय उत्सव और पड़वा का अर्थ होता है प्रतिपदा . इस पर्व को दक्षिण भारत में विजय दिवस के रूप में मनाते है क्योकि वानर राज बालि के आतंक से सभी को मुक्ति जो मिली है . भगवान् राम ने बालि को मार कर विजय पाई थी जिसे गुड़ी कहा जाता है.

आज के दिन दक्षिण भारत के हर घर में ध्वज पताका को बंधनवार से सजाते है . महाराष्ट्र में भी इस त्यौहार को हर घर में मनाया जाता है . और हर घर में विजय पताका सजाया जाता है . ऐसी भी मान्यता है की इसी दिन ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना भी की थी और इसी दिन भी सतयुग की शुरुआत भी हुई थी.

गुढीपाडवा पूजा विधि

गुढीपाडवा का आरम्भ 24 मार्च दिन मंगलवार को 2 बजकर 57 मिनट से होकर 25 मार्च बुधवार 5 बजाकर 26 मिनट तर्क रहेगा . इस बीच श्रद्धालु पूजा अर्चना कर सकते है .

इस त्यौहार को आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में बहुत ही हर्ष और उल्लास से मानते है . इस दिन को नया साल की शुरुआत भी मानते है .

गुड़ी पड़वा का महत्व क्या है?- Importance of Gudi Padwa 

दक्षिण भारत का सम्बन्ध रामायण काल से है . एक मान्यता के अनुसार जब लंकापति रावण ने माँ सीता का हरण करके लंका ले गए , तो भगवान राम को रावण से युध्द करने के लिए एक विशाल सेना की आवश्यक थी , इसलिए उन्होंने वानरों के राजा बालि को मारकर सुग्रीव से मित्रता किया . इससे दक्षिण भारत के लोगों को बालि से मुक्ति मिली और वह दिन प्रतिपदा ही था  . इसलिए विजय उत्सव के रूप में  विजय पताका फहराया जाता है .

एक दूसरी कथा के अनुसार राजा शालिवाहन ने मिटटी की सेना बनाकर उसमे जान फूंक दिया था और इस प्रकार दुश्मनो का खात्मा किया था . इसी दिन शालिवाहन शक का आरम्भ भी होता है .

किसान भी बहुत खुश नजर आते है क्योकि अच्छी फसल होने के उपलक्ष में अन्नदेवता को धन्यवाद भी देते है और उससे आशीर्वाद मांगते है की हमारा भंडार धन-धान्य से हमेशा भरा रहे .

Related Post:

Spread the love

Leave a Comment

5 + eighteen =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.