वायु प्रदूषण पर निबंध

वायु प्रदूषण पर निबंध इन हिंदी इन 100 words

Air Pollution Essay in Hindi:-आए दिन बढ़ती हुई शहरीकरण एक बहुत बड़ी समस्या लेकर खड़ी हो गई है | और ये समस्या दिन बर दिन बढ़ती ही जा रही है | आम जनता के सामने कई समस्या है जैसे- बेरोजगारी की समस्या , जल की समस्या , बिजली की समस्या , भुखमरी की समस्या , औधोगिकरण की समस्या तथा वायु प्रदूषण की समस्या |

सभी समस्या से हम एक एक करके निपट लेंगे | लेकिन वायु प्रदूषण की समस्या बहुत बड़ी विकराल रूप  लेती ही जा रही है | अब इसके लिए हर एक जनता को इसके बारे में सोचना होगा | तभी हम इससे निदान पा सकते है | अन्यथा हमारा शरीर बिमारियों का घर बन जायेगा |

वायु प्रदूषण पर निबंध

हम श्वशन क्रिया में ऑक्सीजन गैस को लेते है और कार्बन-डाइऑक्साइड को छोड़ते है | वायुमंडल में ऑक्सीजन गैस का विशाल भंडार है | लेकिन इसका भंडार धीरे धीरे घटता जा रहा है |ऑक्सीजन गैस को प्राणदायिनी गैस कहा जाता है | हमें एक स्वास्थय जिंदगी जीने के लिए शुध्द हवा से श्वास लेना बहुत जरुरी है | लेकिन ये हवा प्रदूषित होती जा रही है |

How air pollution is caused (वायु प्रदूषण के कारण)

जब हवा में गलती से जान बूझकर कोई जहरीली गैस मिक्स हो जाति है तो यह हवा जहरीली बन जाती है |

लेकिन जब वायुमंडल के इस हवा में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाय या फिर कोई जहरीली गैस मिल जाय तो हवा प्रदूषित हो जाती है | हवा गन्दी हो जाती है | और इस हवा को श्वास लेने से हमारे शरीर में भी जहर फ़ैल जाता है | और इस प्रकार समूचा मानव जाति इसके शिकार हो जाते है | यही वायु प्रदुषण है |

ये निम्न कारन है जो वायुमंडल के शुध्द हवा को दूषित करती है :

  • कारखानों से निकलने वाले विषैली गैस
  • लगातार वृक्ष के कटे जाने से वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है
  • वाहनों के chalne से ईंधन के जलने से निकलने वाले धुआं
  • पराली को जलने से निकलने वाली धुँआ से
  • धूल और धूलकण का हवा में मिल जाने से

Causes of air pollution

वायु के प्रदूषित होने के निम्न संभावित कारण हो सकते है :-

औद्योगीकरण:-भारत एक विकाशशील देश है | उसे विकाश की गति देने के लिए उधोग धंधे का विकाश किया जा रहा है | इसके लिए नए नए कल कारखाने खुल रहे है | जिससे खतरनाक हाइड्रो कार्बन, कार्बन मोनोऑक्साइड जैसी रासायनिक जहरीली गैसें हवा में छोड़ी जा रही है | परिणामस्वरूप हवा खराप हो रही है |

इन उधोगों से तरह तरह के प्रोडक्ट बनाए जा रहे है |जैसे- कपडे का धुलाई और छपाई , चमड़ा उधोग, प्लास्टिक उधोग |

इन उधोगों में भरपूर मात्रा में केमिकल का उपयोग किया जा रहा है और इस प्रकार रासायनिक प्रतिक्रिया से निकला हुआ जहरीले गैस हवा में घुलकर उन्हें दूषित कर रहे है |

प्राकृत संसाधन का बेतहाशा उपयोग:- जनसंख्यां वृद्धि और बढ़ाते शहरीकरण से प्राकृत संसाधनों का दोहन हो रहा है | तथा वाहनों के ईंधन के जलने से वातावरण में बड़ी मात्रा में कार्बन के यौगिकों और सल्फर डाइऑक्साइड जैसे जहरीली जैसे लगातार हवा में मिक्स हो रही है | जीवाश्म ईंधन तथा अन्य प्रकार को जलने से वायुमंडल दूषित हो रही है |

जनसँख्या के बढ़ने से जंगलो को काटा जा रहा है और नए शहर बसाए जा रहे है | पेड़ पौधे हवा को शुद्ध करते है| और पेड़ को काटने से हवा में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जा रही है | जो आने वाली पीढ़ी के लिए बहुत ही चिंताजनक है |

कृषि कारण:-भारतीय किसान अपनी उपज को बढ़ाने के लिए कीटनाशकों दवाइया और उर्वरकों का बहुत अधिक मात्रा उपयोग कर रहे हैं। और ये रासायनिक पदार्थ हानिकारक अमोनिया गैस छोड़ते हैं, जो हवा की गुणवत्ता को प्रदूषित करते है | परिणामस्वरूप हवा की क्वालिटी घटती जाती है | इससे हमारे देश में air Quality Index में लगातार वृद्धि हो रही है |

कृषि कार्य के हो जाने के बाद भी किसान अपने खेत को साफ़ करने के लिए पराली को जलाते है जिससे बहुत अधिक धुंआ वातावरण में फैलकर हवा को खराप करते है | खेत को साफ़ इसलिए करते है की नया फसल लगा सके |

प्राकृतिक प्रकोप:-वायु दूषित होने में प्राकृत भी खुद जिम्मेदार है क्योकि ज्वालामुखी, जंगल की आग और धूल भरी आंधियां प्रकृति में पैदा होने वाली घटनाएं हैं जो वायु को दूषित कराती है |

समय समय पर प्राकृतिक आपदाए भी आती रहती है जिससे वायुमंडल की हवा ही नहीं आम जनता भी बेघर हो जाते है | जैसे:- आंधी और तूफ़ान, ज्वालामुखी का फटना आदि |

Household Activities:-हम अपने घरो से भी हवा को दूषित करते है | आम घरेलू रसायनों, विशेष रूप से ब्लीच, उचित वेंटिलेशन के बिना, इनडोर वायु प्रदूषण का एक प्राथमिक स्रोत है। सिगरेट और सिगार तथा तम्बाकू के उपयोग से धूम्रपान भी हवा में जहरीले प्रदूषक छोड़ता है।

बाहरी प्रदूषण को व्यापक स्तर पर प्राथमिक खतरे के रूप में समझना अक्सर आसान होता है, लेकिन रोज़मर्रा की छोटी-छोटी गतिविधियों को भी खारिज नहीं करते हैं जो आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। हम खुद भी इसके जिम्मेदार है |

How air pollution affects Human Health

प्रदूषित वायु केवल मानव जीवन ही नहीं समाज तथा पशु पक्षी पर भी प्रभाव डालते है | आइए जानते है की वो वायु प्रदुषण के पांच प्रभाव क्या है मानव जीवन को प्रभावित करते है :-

Global warming: वायु में लगातार कार्बन डाइऑक्साइड के मिक्स को जाने से तापमान बढ़ता जा रहा है जिससे ग्लेशियर से बर्फ पिघलते जा रहे है | जो एक ग्लोबल वार्मिंग समस्या उत्पन्न हो जाएगी |

नित्य नए नए वैज्ञानिक प्रयोग से वायुमंडल के ओजोन परत को हम हटाते जा रहे है जिससे सूर्य की सीधी किरणें पृथ्वी पर पड़ती है | जिससे स्किन की बीमारी बहुत ज्यादा हो रही है | हमारी त्वचा धुप नहीं सहन कर पा रही है | पराबैगनी किरणें सीधा पृथ्वी पर पड़ती है |

श्वाश और ह्रदय सम्बन्धी बीमारियां:-हम अपने रेस्पिरेटरी सिस्टम से अशुध्द हवा को अपने फेफड़े से ले रहे है जिससे हमारे फेफड़े की श्वाश नली खराप होती जा रही है | फेफड़े खराप हो जाने से आपको श्वाश लेने में तकलीफ होगी | और अस्थमा, कैंसर तथा हार्ट अटैक जैसी खतरनाक बिमारियों में चपेट में आ जायेंगे | क्योकि इन हवा में जहरीली गैस भरी है |

और हमारे धमनियां में भी गलत असर पड़ेगा जिससे उच्च रक्तचाप तथा दिल के दौरे पड़ना जैसी बीमारी जन्मे ले लेगा |

Related Post:

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.